Tuesday, October 14, 2014

श्री सर्बानंदा सोनोवाल ने इंचिओन एशियाई खेल 2014 के पदक विजेताओं को सम्मानित किया

कौशल विकासउद्यमितायुवा मामले एवं खेल राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), श्री सर्वनंदा सोनोवाल ने एशियाई खेल 2014 के पदक विजेताओं का अभिनंदन किया। इस अवसर पर केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री श्री थावर चंद गहलोतगृह राज्य मंत्री श्री किरण रिजिजू और कई अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे। श्री सोनोवाल ने एशियाई खेल 2014 केपदक विजेताओं को उनके बेहतरीन प्रदर्शन के लिए बधाई दी, और कहा उन्होंनेराष्ट्र का सम्मान बढ़ाया और देश को गौरवान्वित किया है। भारत ने एशियाई खेल 2014 में कुल 57 पदक (11 स्वर्ण10 रजत36 कांस्य) जीते हैं।
मंत्री का पूरा संबोधन इस प्रकार है:
      मुझे बहुत हर्ष है कि मैं अपने उम्दा खिलाड़ियों का एक बार फिर सम्मान कर रहा हूं। भारत सरकार के खेल मंत्री का पद संभालने के बाद मुझे इसी साल अगस्त के महीने में ग्लास्गो कॉमनवेल्थ खेलों के पदक विजेताओं का अभिनंदन करने का सौभाग्य भी प्राप्त हुआ था। महज दो महीनों में ही दूसरा खुशी का मौका कि मुझे एशियाड पदक विजेताओं का अभिनंदन करने का सौभाग्य मिला है। यहां मौजूद सभी लोगों की ओर से मैं एशियाड 2014 के पदक विजेताओं को तहे दिल से बधाई देता हूं।
      विशेष रूप से प्रतिस्पर्धा के उच्च स्तर पर आपकी उपलब्धियां शानदार और प्रेरणादायक हैं। इस प्रकार की प्रत्येक अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में सफलता और असफलता के साथ बहुत करीबी चूक के मौके भी आते हैं। यही खेल है। खेल एक सम-भावना जगाता है। यह हमें सफलता में होश न खोने और नाकामियाबियों से निराश नहीं होने की सीख देता है। हर मौके पर हर जीत और हार के प्रति एक जैसी भावना रखें। जिन्होंने स्वर्ण जीता है उन्हें इसे बरकरार रखने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए और रीयो-2016 पर ध्यान देना चाहिए और जिन्होंने रजत और कांस्य पदक जीते हैं उन्हें भी स्वर्ण और रियो-2016 के लिए तैयारी करनी चाहिए।
मित्रोंमैं खास तौर पर स्वर्ण पदक विजेताओं को बधाई देता हूं।
(i) मुक्केबाजी                               सुश्री मैरी कॉम
(ii) तीरंदाजी (कंपाउंड पुरुष टीम)          अभिषेक वर्माएस. कुमार और आर. चौहान
(iii) एथलेटिक्स (महिला चक्का फेंक)       सीमा पूनिया
(iv) एथलेटिक्स (महिला 4x400मीटर रिले)  प्रियंका पंवारटिंटू लूकामंदीप कौरऔर पूवाम्मा राजू
(v) शूटिंग (50-मीटर पुरुष पिस्टल)       जीतू राय
(vi) स्क्वॉश (पुरुष टीम)                 सौरव घोषाल, एच.पी. संधू,  एम. मंगांवकर और के. कुमार
(vii) टेनिस (मिश्रीत डबल)               सानिया मिर्जा और साकेत मयनेनी
(viii) कुश्ती (पुरुष फ्रीस्टाइल 61 किलोग्रामयोगेश्वर दत्त
(ix) कबड्डी                           (पुरुष और महिला टीम)          
(x) हॉकी                                                                 (पुरुष) जिसने 16 साल बाद स्वर्ण पदक जीता         
      एशियाड 2014 में हॉकी को नवजीवन मिला है। पूरा देश टीम को सलाम करता है। मुझे भारतीय हॉकी टीम पर पूरा भरोसा है और मैं चाहता हूं कि वे ओलंपिक स्वर्ण पदक जीतकर लाए जिसे हमने आखिरी बार 1946 में जीता था।
      मित्रोंजैसा कि आप जानते हैंहमारी सरकार आपके प्रशिक्षण के लिए सबसे अच्छी सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है। हम आपको विदेशी कोचकुशल निदेशक,फिजियोथेरेपिस्टमानसिक प्रशिक्षक और अन्य सहायक स्टाफ उपलब्ध करा रहे हैं। एसीटीसी के तहतवार्षिक प्रशिक्षण कार्यक्रम पर भी ध्यान दिया जा रहा है। योग्य खिलाड़ियों को विदेशों में विशेष प्रशिक्षण दिलाया गया है। मैंने खेल सचिव और भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) के महानिदेशक को एशियाड 2014 के सभी खेलों के प्रदर्शन की समीक्षा करने और सुधार के लिए कदम उठाने को कहा है। मेरा खास तौर स्पष्ट निर्देश है कि हमें ओलंपिक के लिए अभी बचे समय में उन खेलों पर ध्यान केंद्रित करना है जिनमें हम ओलंपिक में पदक जीत सकते हैं। मंत्रालय ने इसके लिए 'टार्गेट ओलंपिक पोडियम' (टॉप) योजना तैयार की है। इसे सावधानी पूर्वक लागू किया जाना चाहिए।
      मैं सभी संघों से जूनियर और सब जूनियर प्रशिक्षण पर ध्यान केंद्रित करने का आग्रह करता हूं। हमें नई प्रतिभाओं की तलाश करने और उन्हें पर्याप्त प्रशिक्षण देने की आवश्यकता है जिससे 2020 के ओलंपिक और उसके बाद हमारे पास  प्रतिभाशाली खिलाड़ी हों।
      इस सम्मान के मौके परमित्रोंआइए खेलों में भारत की प्रतिष्ठा बढ़ाने के लिए हम खुद को फिर से समर्पित करें। हमारा लक्ष्य ओलंपिक 2016 होना चाहिए और मैं सभी बेहतरीन खिलाड़ियों से रियो-2016 में पोडियम तक पहुंचने पर लक्ष्य करने का आग्रह करूंगा।
      श्री सोनोवाल ने समारोह में उपस्थित पदक विजेताओं को नकद पुरस्कार भी दिया। मंत्रालय ने 151 खिलाड़ियों ( इंचियोन एशियाई खेलों में व्यक्तिगत पदक जीतने वाले और पदक विजेता टीमों के सदस्य) के लिए 10.88 करोड़ रुपए जारी किए हैं। व्यक्तिगत स्पर्धाओं में स्वर्णरजत और कांस्य पदक जीतने वाले प्रत्येक खिलाड़ी को क्रमश20 लाख रुपए10 लाख रुपए और 6 लाख रुपए का नकद पुरुस्कार दिया गया। टीम स्पर्धाओं के पदक विजेताओं को व्यक्तिगत स्पर्धाओं के पदक विजेताओं से कम से कम आधी रकम का नकद पुरुस्कार दिया गया।

No comments: