Tuesday, October 14, 2014

प्रधानमंत्री ने इंचियोन एशियाई खेल-2014 के पदक विजेताओं को सम्‍मानित किया

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज इंचियोन में संपन्‍न 17वें एशियाई खेलों के पदक विजेताओं को सम्‍मानित किया। 

एशियाई खेलों में देश के लिए प्रतिष्‍ठा हासिल करने वाले खिलाड़ियों को बधाई देते हुए उन्‍होंने कहा कि खेलों में भारत के बेहतर प्रदर्शन को देखकर वह बहुत उत्‍साहित हैं। उन्‍होंने आशा व्‍यक्‍त की कि उनके उत्‍साह और खिलाड़ियों के हौसले से राष्‍ट्र के लिए अच्‍छे परिणाम सामने आएंगे। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोई भी देश आत्‍मसम्‍मान और गौरव के बिना आगे नहीं बढ़ सकता है। उन्‍होंने कहा कि जब मंगलयान सफलतापूर्वक मंगल पर पहुंचा तो वह वैज्ञानिकों की उपलब्‍धि थी लेकिन यह सभी भारतीय के लिए गौरव का विषय है। इस अभियान ने भारत को विश्‍व स्‍तर पर पहचान दिलाई। इसी प्रकार, एक खिलाड़ी की उपलब्‍धि सभी भारतीय नागरिकों के लिए सम्‍मान और गर्व की बात होती है। 

प्रधानमंत्री ने एकत्रित खिलाड़ियों से कहा कि वे अपने सुझाव नि:संकोच उन्‍हें दे सकते हैं और अगर किसी विशेष मुद्दे पर कोई बात करना चाहते हैं तो वे उनसे निजी तौर पर संपर्क कर सकते हैं। श्री मोदी ने कहा कि खिलाड़ियों को उन्‍हें अपना ‘मित्र’ समझना चाहिए। उन्‍होंने मैरी कॉम और सचिन तेंदुलकर द्वारा ‘स्‍वच्‍छ भारत अभियान’ के लिए किए गए प्रयासों की सराहना की और कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा झाड़ू लगाने से कही अधिक लोग इनको देखते हैं। उन्‍होंने कहा कि एक राजनीतिक नेता की तरह ही खिलाड़ी भी देश के लिए कार्य कर सकते हैं। 

श्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा कि भारत का खेलों में प्राचीन इतिहास है और कच्‍छ के समीप धोलावीरा के पुरातात्‍विक स्‍थानों में एक स्‍टेडियम पाया गया है। रामायण और महाभारत जैसी प्राचीन पाठ्य पुस्‍तकों में भी शिक्षा के तौर पर शारीरिक गतिविधियों पर ध्‍यान दिया गया लेकिन हमने अब तक विश्‍व स्‍तर की प्रतिस्‍पर्धा के लिए अपने आपको तैयार नहीं किया। उन्‍होंने कहा कि यह स्‍थिति अब धीरे-धीरे बदल रही है क्‍योंकि राज्‍य अब खेलों पर विशेष ध्‍यान दे रहे हैं और खेल विश्‍वविद्यालय स्‍थापित किए जा रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि खेलों के विकास के लिए भारत अन्‍य देशों के साथ संधि कर रहा है। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि कॉरपोरेट क्षेत्र विशेष खेलों को बढ़ावा देने के लिए अब आगे आ रहे हैं और यह भविष्‍य के लिए एक अच्‍छी बात है। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि पुरस्‍कार विजेता खिलाड़ी जो अच्‍छे वक्‍ता हों उन्‍हें विश्‍वविद्यालय में अपनी बात रखनी चाहिए जिससे युवाओं को प्रेरणा मिल सके। 

उन्‍होंने कहा कि खिलाड़ी की एक गलती से देश का नाम बदनाम हो सकता है इसलिए प्रधानमंत्री ने खिलाड़ियों को अपने आचार-व्‍यवहार में सावधानी बरतने को कहा। 

एकत्रित खिलाड़ियों को खेल मंत्री श्री सर्बानंद सोनोवाल ने भी संबोधित किया। स्‍टार बॉक्‍सर मैरी कॉम ने सबका धन्‍यवाद किया। 

No comments: